पृष्ठ

मंगलवार, जून 25, 2013

,मैं उस फल को तुरन्त फ़ेंक दिया




त्रिवेन्द्रम में मैं कंचन अपनी पत्नी सविता चतुर्वेदी के साथ स्टीमर पर सवार होकर जंगल झाड़ियो के बीच होता हुआ समुद्र तट पर पहुंचा।रास्ते में आम सरीखा फल दिखाई दिया जिसे मैं तोड़ लिया तभी स्टीमर चालक ने कहा भूलकर भी मुंह में मत डालियेगा यह जहर है दो मिनट में काम  तमाम हो जायेगा ,मुझे बड़ा आश्चर्य हुआ ,मैं उस फल को तुरन्त फ़ेंक दिया

1 टिप्पणी: