पृष्ठ

सोमवार, अप्रैल 22, 2013

दो दोहे

बाधाओं से जूझकर       जो करता संघर्ष 
वह निश्चित ही एक दिन पा  लेता उत्कर्ष . 

मनसा वाचा कर्मणा जो भी करता पाप 
वह अपने ही चाल से     पाता है संताप .

1 टिप्पणी: