पृष्ठ

मंगलवार, जुलाई 10, 2012

समाचार पढ़ते

डा.सविता चतुर्वेदी एवं डा . उमाशंकर चतुर्वेदी 'कंचन '

3 टिप्‍पणियां:

  1. बगल में सुंदर किताब है, जनाब समाचार पढ़ रहे हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  2. देवेन्द्र जी की टिप्पड़ी सच लाजवाब है

    सुंदर है दृष्टि इसलिए सुन्दर शवाब है

    मैं हूँ प्रकाशवान तो वो आफताब है

    कविता में चमक चांदनी का महताब है

    कंचन में जो निखार है उसका वो आब है

    पूजा है, प्यार और मेरा भाव, ख्वाब है

    जिससे हमारी जिन्दगी का ज्ञानपुंज है

    सच है कि बंधु ! जिन्दगी ,पत्नी ,किताब है

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुबारक हो श्रीमान! आप ठहरे प्रचंड विद्वान।

    उत्तर देंहटाएं