पृष्ठ

गुरुवार, मार्च 08, 2012

क्रोध लोभ ईर्ष्या सभी होली में दो जार 
मन से मन को जोड़कर सबको बाँटो प्यार  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें