पृष्ठ

बुधवार, फ़रवरी 02, 2011


मैं अपनी कुटिया में खुश हूँ तुम अपना महल सजाना ।

जिस घर से गांठ बंधी है

रखना उसकी मर्यादा ,

मैं क्या था तुम क्या थी

यह सोच न करना ज्यादा ,

वह महके सदा गली प्रिय

जो द्वार तुम्हारे जाये।

मैं निकलूं कभी गली उस तुम घूंघट खींच लजाना ।

मैं अपनी कुटिया में खुश हूँ तुम अपना महल सजाना ॥

संध्या में देहरी पर

तुम एक जलाना बाती ,

चमके चाद सितारे ,

तब मन की पढ़ना पाती ,

जब गहन निशा में चातक

की चीख कभी टकराये ,

तब तब उठ करके साधो तुम अपने साज बजाना ।

मैं अपनी कुटिया में खुश हूँ तुम अपना महल सजाना ॥

हीरा मोती पन्ना

सब कुछ है पास तुम्हारे ,

मैं क्या दे सकता हूँ तुमको

बोलो ? क्या पास हमारे ,

संयम धीरज का बंधन

जब तोड़ जिया अकुलाये ,

तो लाज बचाये रखना नारी का लाज खजाना ।

मैं अपनी कुटिया में खुश हूँ तुम अपना महल सजाना ॥

5 टिप्‍पणियां:

  1. ...काश सभी प्रेमी ऐसे ही हों।
    चाँद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपके ब्लॉग पर हैडर में बनारस की तस्वीर मोह लेती है.

    रचना बहुत सुन्दर है.

    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. कंचन जी आप के शब्दों में पीड़ा के साथ साथ प्रेम भी है

    उत्तर देंहटाएं
  4. kaavya
    apnaa parichay
    swayam hi de rahaa hai ..

    achhee kriti .

    उत्तर देंहटाएं
  5. पञ्च दिवसीय दीपोत्सव पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं ! ईश्वर आपको और आपके कुटुंब को संपन्न व स्वस्थ रखें !
    ***************************************************

    "आइये प्रदुषण मुक्त दिवाली मनाएं, पटाखे ना चलायें"

    उत्तर देंहटाएं